profit-loss
profit-loss

क्रय मूल्य

जिस मूल्य पर कोई वस्तु खरीदी जाती है वह मूल्य उस वस्तु का क्रय मूल्य कहलाता है

विक्रय मूल्य

जिस मूल्य पर कोई वस्तु भेजी जाती है वह विक्रय मूल्य  कहलाता है

लाभ

विक्रय मूल्य- क्रय मूल्य

हानि

क्रय मूल्य- विक्रय मूल्य

नोट: लाभ अथवा हानि की गणना हमेशा क्रय मूल्य पर की जाती है

प्रतिशत लाभ = (लाभ/ विक्रय मूल्य – क्रय मूल्य)100 

प्रतिशत हानि = (  हानि /क्रय मूल्य – विक्रय मूल्य)100

नोट: लाभ और हानि की गणना हमेशा क्रय मूल्य पर की जाती है  चाहे लाभ हो अथवा हानि  प्रिय विद्यार्थियों हम आपको बता दें कि प्रतिशत की अच्छी जानकारी रहने पर ही आप लाभ और हानि के सवालों को आसानी से साफ कर सकते हैं ! इसके लिए कुछ प्रतिशत  मान याद करना होगा 

 जैसे-1/1=100% ½=50% ⅓=33.33 ¼ =25% ⅕=20% इसी प्रकार 30 तक लर्न किया जाता है!

अंकित मूल्य

जो मूल्य किसी वस्तु पर छपा रहता है! उसे अंकित मूल्य या MRP कहते हैं! इसी को अधिकतम खुदरा मूल्य भी कहा जाता है! इस मूल्य पर दुकानदार ग्राहक को छूट देता है! इसके बावजूद भी दुकानदार को लाभ होता है!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *