प्रिय मित्र अंशुमान,
नमस्कार। 

यहाँ पर हम सभी लोग कुशल से हैं और आशा करता हूँ कि तुम भी अपने परिवार के साथ सकुशल होगे। मित्र! परसों मेरी बारहवीं वर्षगांठ थी। इस अवसर पर मेरे पापा ने सभी सगे-सम्बन्धियों तथा मित्रों को भी आमंत्रित किया था। 

मित्र! इस शुभ अवसर पर तुम्हारे सिवा प्रायः सभी लोग आये थे। हम सभी तुम्हे बार-बार याद कर रहे थे। जन्मदिन का उत्सव खूब जोर-शोर से चल रहा था, तभी अचानक डाकिये की आवाज आयी। मैं निकलकर बाहर आया तो उसने मुझसे हस्ताक्षर कराकर एक छोटा सा पार्सल दिया। मैंने जैसे ही उस पार्सल को खोला तो उसमें से एक सुन्दर सी घड़ी निकली, जिसे तुमने उपहारस्वरूप भेजा था। 

प्रिय मित्र! मैं इस सुन्दर उपहार के लिए हार्दिक धन्यवाद देता हूँ। मैं तुम्हारे द्वारा भेजे गए इस उपहार का सदुपयोग करूँगा और इससे पूरा-पूरा लाभ उठाउंगा। अच्छा अब पत्र समाप्त करता हूँ। शेष शुभ-

तुम्हारा प्रिय मित्र 

23 जनवरी, 2019

Leave a comment

Your email address will not be published.