हिंदी व्याकरण

सभी Competitive Exam के लिए Android App

जो शब्द क्रिया की विशेषता बतलाये ,उसे क्रिया विशेषण कहते है । 

जैसे – 
१. खरगोश तेज दौड़ता है। 
२. पिता जी बाहर घूमने जा रहे है। 
३. धीरे धीरे मेरा उससे परिचय हुआ । 
४. मेज के ऊपर पुस्तक रखी हुई है।

क्रिया विशेषण के भेद :-
१.कालवाचक विशेषण
२.स्थानवाचक विशेषण
३.परिमाणवाचक विशेषण
४.रीतिवाचक विशेषण

१. कालवाचक विशेषण : –वे क्रिया विशेषण शब्द जो क्रिया के घटित होने के समय से सम्बंधित विशेषण बताते है ,वे कालवाचक क्रियाविशेषण कहलाते है। जैसे – १.आज बरसात होगी । २.माँ सुबह नाश्ता बनाती है ।३.राम कल मेरे घर आयेगा। इस क्रिया विशेषण के अन्य उदाहरण निम्न है –

कल ,परसों ,प्रायः ,अक्सर ,बाद में ,जब,तब,अब,अभी,आज,कभी,नित्य ,सदा,प्रतिदिन आदि है ।

२. स्थानवाचक क्रियाविशेषण : – वे क्रिया विशेषण शब्द जो क्रिया के घटित होने के स्थान का बोध कराते है,उन्हें स्थानवाचक क्रियाविशेषण कहते है। जैसे – 
१.अन्दर जाकर पढ़ो ! 
२.बच्चे ऊपर खेलते है । 
३.अब वहां अकेला मज़दूर था । 
इस क्रिया विशेषण के अन्य उदाहरण निम्न है – यहाँ, वहां, कहाँ, दूर, पास, ऊपर, नीचे, अन्दर, बाहर, भीतर, किधर, इस ओर, उस ओर, इधर, उधर आदि।

३. परिमाणवाचक क्रियाविशेषण :- जिन क्रिया –विशेषण शब्दों से क्रिया के परिमाण अथवा मात्रा से सम्बंधित विशेषता का बोध हो ,उन्हें परिमाणवाचक विशेषण कहते है । जैसे – १.अधिक पढ़ो ! २.कम खाओ ! ३.ज्यादा सुनो ! । अन्य परिमाणवाचक क्रिया विशेषण इस प्रकार है – पर्याप्त ,कुछ ,जरा ,खूब,बिल्कुल,काफ़ी ,बहुत,कितना,थोड़ा,ज्यादा आदि है।

४. रीतिवाचक क्रिया विशेषण : – जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के घटित होने की विधि या रीति से सम्बंधित विशेषता का बोध करवाते है,उन्हें परिमाणवाचक विशेषण कहते है। जैसे – 
१. कछुवा धीरे धीरे चलता है । 
२. अचानक काले बादल घिर आए 
३. हरीश ध्यानपूर्वक पढ़ रहा है। इसके अलावा रीतिवाचक क्रियाविशेषण के अन्य उदाहरण है – ठीक, ग़लत, सच, झूठ, धीरे, सहसा, ध्यानपूर्वक, ऐसे, वैसे, कैसे, तेज आदि।

Leave a comment

Your email address will not be published.