ssc-auto
ssc-auto
  1. “भारती का सपूत” 1954 ई. -रांगेय राघव (भारतेन्दु हरिश्चन्द्र पर) यह हिन्दी मे प्रथम जीवनीपरक उपन्यास है।
  2. “रत्ना की बात”- 1957 ई. – रांगेय राघव (तुलसी के जीवन पर)
  3. “लोई का ताना”- 1974ई. – रांगेय राघव ( कबीर के जीवन पर)
  4. मानस का हंस “-1974ई.- अमृतलाल नागर- (तुलसीदास के जीवन पर)
  5. “मेरी भव बाधा हरौ”- 1976- रांगेय राघव- (बिहारी के जीवन पर)
  6. “धूनी का धुआँ”- 1978 ई.- रांगेय राघव- (गोरखनाथ के जीवन पर)
  7. “यशोधरा जीत गई” – रांगेय राघव ( भगवान बुद्ध के जीवन पर)
  8. देवकी का बेटा” -रांगेय राघव -(कृष्ण जी के जीवन पर)
  9. खंजन नयन” 1981- अमृतलाल नागर- (सूरदास के जीवन पर)
  10. पहला गिरमिटिया “- 1999ई.- गिरिराज किशोर (गांधी जी के जीवन पर)
  11. सूत्रधार “-2003ई. – संजीव- (भिखारी ठाकुर के जीवन पर)
  12. तोड़ो कारा तोड़ो “-2004ई. – नरेन्द्र कोहली(विवेकानंद जी के जीवन पर)
  13. सनातन पुरुष “- राजेन्द्र भटनागर ( महर्षि अरविंद)
  14. युग पुरूष अम्बेडकर “-राजेन्द्र भटनागर

Leave a comment

Your email address will not be published.